Tag Archives: gulzar

बस इक लम्हे का झगड़ा था


गुलज़ार

 
बस इक लम्हे का झगड़ा था –
दरो-दीवार पे ऐसे छनाके से गिरी आवाज़ जैसे काँच गिरता है –
हर इक शै में गयीं उडती हुई, जलती हुई किरचें!
नज़र में, बात में, लहजे में, सोच और साँस के अन्दर |
लहू होना था इक रिश्ते का, सो वह हो गया उस दिन
उसी आवाज़ के टुकड़े उठा के फ़र्श से उस शब,
किसी ने काट ली नब्ज़ें – 
न की आवाज़ तक कुछ भी,

कि कोई जाग न जाये

 

An English Translation

A mere one-moment tiff –
And the voice crashed on the walls like a glass shatters –
The splinters, stinging, flew into everything
In our eyes, in our conversation and its tone, in our thoughts and breaths even |
A relation was to be murdered, and that happened eventually –

Using a fragment of that very voice, that night,
Someone slit their veins –
Not making the slightest noise,
Lest someone wakes up

 

The same was recited by Dia Mirza for “Dus Kahaniyaan(2007)” album.

Advertisements
Tagged , , , , , , , ,
%d bloggers like this: